Saturday, 28 January 2012

श्री सरस्वती चालिसा - Shree Saraswati Chalisa

श्री सरस्वती चालिसा

स्तुति

बन्दे इंन्दु हार धवला,
या शुभ वस्त्रा वृता ।
या वीणा वर मंडित करा,
या स्वेत पदमासना ॥

दोहा

जनज जननि पद्मराज, निज मस्तक पर धारि ।
बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि ॥
पूर्ण जगत में व्याप्त तव महिमा अमित अनंतु ।
दुष्टजनों के पाप को, मातु तुही अब हंतु ॥
जय श्रीसकल बुद्धि बलरासी ।
जय सर्वज्ञ अमर अविनाशी ॥
जय जय जय वीणाकर धारी । करती सदा सुहंस सवारी ॥
रुप चतुर्भुज धारी माता । सकल विश्व अन्दर विख्याता ॥
जग में पाप बुद्धि जब होती । तबही धर्म की फीकी ज्योति ॥
तब हि मातु का निज अवतारी । पाप हीन करती महतारी ॥
बाल्मीकि जी थे हत्यारा । तव प्रसाद जानै संसारा ॥
रामचरित जो रचे बनाई । आदि कवि की पदवी पाई ॥
कालिदास जी भये विख्याता । तेरी कृपा दृष्टि से माता ॥
तुलसी सूर आदि विद्वाना । भये और जो ज्ञानी नाना ॥
तिन्ह न और रहेऊ अवलम्बा । केवल कृपा आपकी अम्बा ॥
करहु कृपा सोई मातु भवानी । दुखित दीन निज दासहिं जानी ॥
पुत्र करत अपराध बहूता । तेहि न धरई चित माता ॥
राखु लाज जननी अब मेरी । विनय करउं भांति बहुतेरी ॥
मैं अनाथ तेरी अवलम्बा । कृपा करउ जय जय जगदम्बा ॥
मधुकैटभ जो अति बलवाना । बाहुयुद्ध विष्णु से ठाना ॥
समर हजार पांच में घोरा । फिर भी मुख उनसे नही मोरा ॥
मातु सहाय कीन्ह तेहि काला । बुद्धि विपरीत भई खलहाला ॥
तेहि ते मृत्यु भई खल केरी । पुरवहु मातु मनोरथ मेरी ॥
चण्ड मुण्ड जो थे विख्याता । क्षण महु संहारे उन माता ॥
रक्तबीज से समरथ पापी । सुर मुन हृदय धरा सब कांपी ॥
काटेउ सिर जिम कदली खम्बा । बार बार बिनवउं जगदंबा ॥
जगप्रसिद्ध जो धुभ निशुंभा । क्षण में बान्धे ताहि तूं अम्बा ॥
भरत-मातु बुद्धि फेरेऊ जाई । रामचन्द्र बनवास कराई ॥
एहिविधि रावन वध तु किन्हा । सुन नर मुनि सबको सुख दिन्हा ॥
को समरथ तव यश गुन गाना । निगम अनादि अनंत बखाना ॥
विष्णु रुद्र जस कहिन न मारी । जिनकी हो तुम रक्षाकारी ॥
रक्त दंतिका और शताक्षी । नाम अपार है दानव भक्षी ॥
दुर्गम काज धरा पर कीन्हा । दुर्गा नाम सकल जग लीन्हा ॥
दुर्ग आदि हरनी तू माता । लृपा करहु जब जब सुखदाता ॥
नृप कोपित को मारन चाहे । कानन में घेरे मृग नाहे ॥
सागर मध्य पोत के भंजे । अति तूफान नहिं कूऊ संगे ॥
भूत प्रेत बाधा या दु:ख में । हो दरिद्र अथवा संकट में ॥
नाम जपे मंगल सब होई । सशय इसमें करई न कोई ॥
पुत्रहीन जो आतुर भाई । सबै छोड़ि पूजें एहि भाई ॥
करै पाठ नित यहाँ चालिसा । होय पुत्र सुन्दर गुण ईशा ॥
धोपादिक नैवेध चड़ावै । संकट रहित अवश्य हो जवै ॥
भक्ति मातु की करै सत बारा । बन्दी पाश दूर हो सारा ॥
रामसागर बान्धि हेतु भवानी । कीजै कृपा दास निज जानी ॥

दोहा

मातु सुर्य कांत तव, अन्धकार मम रुप ।
डुबन से रक्षा करहुँ परुँ न मैं भव कूप ॥
बलबुद्धि विद्या देहु मोहि, सुनहु सरस्वती मातु ।
राम सागर अधम को आश्रय तू ही देदातु ॥


style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-5656072117057856"
data-ad-slot="8835885279">



SHARE YOUR ARTICLE

If you have any article, photograph, video etc which you want to share with us through our blog. You can send email us at talkduo@gmail.com or click here

2 comments:

  1. This blog is great source for hosting related information and above both articles are great for our knowledge, Looking forward to upcoming write upTop hosting companies in India

    ReplyDelete
  2. Awesome site ever for god chalisa's.... from hanuman chalisa team

    ReplyDelete